Indian Meri Sachchi kahani 1- meri pahli chudai mausi ke sath.
मेरी सच्ची कहानी १ - मेरी पहली चुदाई मौसी के साथ 
हेलो दोस्तों, मेरा नाम राज है. मैंने यहाँ बहुत सारी सेक्स कहानी पढ़ी तो मुझे लगा  के मै भी यहाँ अपनी सच्ची कहानिया लिखू . यह मेरी पहली कहानी है.
पहले मै अपने बारे में आपको बता दू. मेरा नाम राज है और मै मुंबई का रहनेवाला हु. मेरे घहर में मेरे मम्मी पापा हुए मै रहते है. चूँकि हमारे गाँव में शादिया बहुत काम उम्र में होती थी और बचे भी बहुत जल्दी होते थे. मेरी मम्मी की शादी भी १६ साल की उम्र में हुई थी और एक साल बाद मै पैदा हुआ. मेरी और मेरी मुम्म की उम्र में १७ साल का फर्क था और मेरे पापा मुज़से १९ साल बढे थे. 
अब मै कहानी पे आता हु. ये कहानी तब की है जब मै १७ साल का था. मैंने अभी अभी HSC science की एग्जाम दी थी. उसके बाद छुट्टियों में मैंने बहुत सारी सेक्सी कहानिया पढ़ी. तो मुझे भी सेक्स करने का मन होने लगा. पर मेरी कोई गफ नहीं थी. तो कभी चांस ही नहीं मिला. फिर मै के महीने में हम लोग गाओं गए थे वहां हमे दो शादिया अटेंड करनी थी. दो शादियोंके बिछे में १ हफ्ते का टाइम था. हमने एक शादी अटेंड की फिर हम लोग मां के गांव गए. मै और माँ वहां ठहर गए. और पापा शाम को वापस हमारे गांव में आ गए. उन्होंने कहा के वो अगली शादी के दिन हम दोनों को लेने आएंगे 
मेरे मां के घर में मेरी नानी, मेरे मामा मामी उनके ३ बच्चे और मेरी छोटी मौसी रहते है. मेरी नानी की उम्र करीब ५१, मामा मामी की उम्र ३२-३०, मौसी की उम्र २७ थी.
रात को खाना खाने के बाद मामा मामी उनके कमरे में सोने गए मम्मी नानी के कमरे में सो गयी. मामा के बचे उनके कमरे में सोने गए. मौसी ने बोला तू मेरे कमरे में मरे साथ सो जा. तो हम दोनों मौसी के कमरे में सोने गए. फिर मुझे नींद कब आयी पता ही नहीं चला. रात को करीब १२:१५  बजे मेरी आँख खुली .मै बाथरूम में जाके मूत के आ गया. मौसी अपने पिट गहरी नींद में सो रही थी. मेरी मौसी एकदम गोरी चींटी लड़की थी. उनकी हाइट ५ फ़ीट २ इंच फिगर ३६-२८-३४ होगा. दिखने  में सुन्दर थी. मगर उनको पीरियड्स नहीं आते थे इस वजह से उनकी शादी नहीं हो रही थी. वो गांव की और लड़कों की तरह शर्ट और स्कर्ट पहनती है. उसका स्कर्ट  घुटनो से थोड़ा ऊपर रहता था. आज खाना खाने के बाद जब वो पोछा लगा रही थी तो उनके स्कर्ट उनके घुटने के ऊपर हो गया था और मुझे उनकी चड्डी दिख गयी. तबसे मेरे मन में उनको चोदने की इच्छा जाग गयी.
मै जाके उनके बगल में सो गया. मैंने अपना एक पैर उनके पैर पे डाल दिया और उनका रिएक्शन चेक करने लगा. उनकी तरफ से कोई हलचल नहीं दिखी. फिर मैंने अपना हात उनके पेट पे रख दिया और कुछ देर वेट किया. फिर मैंने अपना हात उनके चूची पे रखा एकदम मुलायम लग रही थी उनकी चूची कुछ देर बाद मैंने हलके से उनकी चूची दबायी अब मेरा लंड  टाइट होने लगा. मैंने अपनी उंगलियोंके प्रेशर उनकी चूचीयो पे बढ़ाया. उनकी तरफ से कोई हरकत नहीं दिखी. तो मैंने उनका शर्ट  के दो बटन खोल के अपना हात अंदर डाला. तो मेर हात को उनको ब्रा लगी. फिर मैंने ब्रा के ऊपर से ही उनकी चूची दबायी. उसके बाद मैंने अपना हात उनकी  चुत पे रखा और स्कर्ट के ऊपर से ही उनकी  चुत सहलाने लगा । उसके बाद मैंने उनकी स्कर्ट ऊपर किसका दिया और उनकी जांघों पे हात फेरने लगा. मैंने उनका स्कर्ट और ऊपर किया तो मुझे उनकी ब्लैक चड्डी दिख गयी मैंने उनकी चुत  को चड्डी के ऊपर से सहलाने लगा. उनकी चुत एकदम फूली हुई थी . जी कर रहा था अभी उनकी चड्डी निकल के अपना लंड उनकी चुत में डाल दू. मगर डर के मारे मैंने उसके आगे कुछ नहीं कर सका. फिर मैं बाथरूम जाके मुठ मारके आ गया और सो गया
दूसरे दिन मौसी का बर्ताव ठीक ही था. मुझे लगा उनको रात के बारे में कुछ पता नहीं चला होगा. रात को फिर मौसी खाना खाने के बाद पोछा लगा रही थी तो मुझे उनकी चड्डी दिखी. पिछली रात की तरफ आज भी मौसी के साथ मजे किये मगर अभी मैंने डर के मारे उन्हें चोदा नहीं. और बाथरूम में जाके मुठ  मारके आ गया
अगले दिन फिर खाना खाने के बाद जब मौसी पोछा लगा रही थी तो मई उसकी जाँघे और चड्डी देखने लगा. फिर हम लोग सोने गए. फिर रात को उठके मैं मौसी की चुचि दबाने लगा तो उनकी चुचि एकदम मुलायम लग रही थी . फिर मैंने उनकी शर्ट के बटन खोल के अंदर हात डाला तो मे चौंक गया क्यूंकि मौसी ने अंदर ब्रा नहीं पहनी थी. मे मौसी के नंगे बूबा दबाने लगा आह क्या मज्जा आ रहा था. आज पहली बार मे किसी औरत के नंगे बूब्स दबा रहा था फिर मैंने उनका स्कर्ट ऊपर किसका दिया और उनकी जांघ और चुत पे हात फेरना लगा. तो मे shocked हो गया क्यूंकि आज मौसी ने आज चड्डी भी नहीं पहनी थी. उनकी झांट वाली नंगी  चुत मेरी सामने थी. पर मौसी जब खाना खाने के बाद पोछा लगा रही थी तब तो उन्होंने चड्डी पहनी हुई थी. तो उन्होंने अब चड्डी क्यों निकल

Attached File(s)
.docx  part 1 mausi.docx (Size: 23.71 KB)
Sorry dosto
 Ye meri pahli kahani hai. Galti se aadhi hi post ho gayi
An mai meri Puri kahani post kar raha hu
[font=Mangal, serif]मेरी सच्ची कहानी १ - मेरी पहली चुदाई मौसी के साथ[/font]

[font=Mangal, serif]हेलो दोस्तों, मेरा नाम राज है. मैंने यहाँ बहुत सारी सेक्स कहानी पढ़ी तो मुझे लगा  के मै भी यहाँ अपनी सच्ची कहानिया लिखू . यह मेरी पहली कहानी है.[/font]
[font=Mangal, serif]पहले मै अपने बारे में आपको बता दू. मेरा नाम राज है और मै मुंबई का रहनेवाला हु. मेरे घर में  मेरे मम्मी पापा और  मै रहता हू. चूँकि हमारे गाँव में शादिया बहुत काम उम्र में होती थी और बचे भी बहुत जल्दी होते थे. मेरी मम्मी की शादी भी १६ साल की उम्र में हुई थी और एक साल बाद मै पैदा हुआ. मेरी और मेरी मुम्म की उम्र में १७ साल का फर्क था और मेरे पापा मुज़से १९ साल बढे थे.[/font]
[font=Mangal, serif]अब मै कहानी पे आता हु. ये कहानी तब की है जब मै १७ साल का था. मैंने अभी अभी HSC science की एग्जाम दी थी. उसके बाद छुट्टियों में मैंने बहुत सारी सेक्सी कहानिया पढ़ी. तो मुझे भी सेक्स करने का मन होने लगा. पर मेरी कोई girlfriend नहीं थी. तो कभी चांस ही नहीं मिला. फिर मई  के महीने में हम लोग गांव गए. वहां हमे दो शादिया अटेंड करनी थी. दो शादियोंके बिछे में १ हफ्ते का टाइम था. हमने एक शादी अटेंड की फिर हम लोग मां के गांव गए. मै और माँ वहां ठहर गए. और पापा शाम को वापस मुंबई  आ गए. उन्होंने कहा के वो अगली शादी के दिन हम दोनों को लेने आएंगे[/font]
[font=Mangal, serif]मेरे मां के घर में मेरी नानी, मेरे मामा मामी उनके ३ बच्चे और मेरी छोटी मौसी रहते है. मेरी नानी की उम्र करीब ५१, मामा मामी की उम्र ३२-३०, मौसी की उम्र २७ थी.[/font]
[font=Mangal, serif]ये कहानी मेरी और मेरी मौसी की है इसलिए मै आपको मेरी मौसी के बारे में बताता हू. मेरी मौसी एकदम गोरी चींटी लड़की थी. उनकी हाइट ५ फ़ीट २ इंच फिगर ३६-२८-३४ होगा. दिखने  में सुन्दर थी. मगर उनको पीरियड्स नहीं आते थे इस वजह से उनकी शादी नहीं हो रही थी. वो गांव की और लड़की तरह शर्ट और स्कर्ट पहनती है. उसका स्कर्ट  घुटनो से थोड़ा निचे  रहता था. आज खाना खाने के बाद जब वो पोछा लगा रही थी तो उनके स्कर्ट उनके घुटने के ऊपर हो गया था और मुझे उनकी चड्डी दिख गयी. तबसे मेरे मन में उनको चोदने की इच्छा जाग गयी थी[/font]
[font=Mangal, serif]रात को खाना खाने के बाद मामा मामी उनके कमरे में सोने गए मम्मी नानी के कमरे में सो गयी. मामा के बचे उनके कमरे में सोने गए. मौसी ने बोला तू मेरे कमरे में मरे साथ सो जा. तो हम दोनों मौसी के कमरे में सोने गए. फिर मुझे नींद कब आयी पता ही नहीं चला. रात को करीब १२:१५  बजे मेरी आँख खुली .मै बाथरूम में जाके मूत के आ गया. मौसी अपने पिट के बल गहरी नींद में सो रही थी.  मै जाके उनके बगल में सो गया. मैंने अपना एक पैर उनके पैर पे डाल दिया और उनका रिएक्शन चेक करने लगा. उनकी तरफ से कोई हलचल नहीं दिखी. फिर मैंने अपना हात उनके पेट पे रख दिया और कुछ देर वेट किया. फिर मैंने अपना हात उनके चूची पे रखा एकदम मुलायम लग रही थी उनकी चूची कुछ देर बाद मैंने हलके से उनकी चूची दबायी अब मेरा लंड  टाइट होने लगा. मैंने अपनी उंगलियोंके प्रेशर उनकी चूचीयो पे बढ़ाया. उनकी तरफ से कोई हरकत नहीं दिखी. तो मैंने उनका शर्ट  के दो बटन खोल के अपना हात अंदर डाला. तो मेर हात को उनको ब्रा लगी. फिर मैंने ब्रा के ऊपर से ही उनकी चूची दबायी. उसके बाद मैंने अपना हात उनकी  चुत पे रखा और स्कर्ट के ऊपर से ही उनकी  चुत सहलाने लगा । उसके बाद मैंने उनकी स्कर्ट ऊपर किसका दिया और उनकी जांघों पे हात फेरने लगा. मैंने उनका स्कर्ट और ऊपर किया तो मुझे उनकी ब्लैक चड्डी दिख गयी मैंने उनकी चुत  को चड्डी के ऊपर से सहलाने लगा. उनकी चुत एकदम फूली हुई थी . जी कर रहा था अभी उनकी चड्डी निकल के अपना लंड उनकी चुत में डाल दू. मगर डर के मारे मैंने उसके आगे कुछ नहीं कर सका. फिर मैं बाथरूम जाके मुठ मारके आ गया और सो गया[/font]
[font=Mangal, serif]दूसरे दिन मौसी का बर्ताव ठीक ही था. मुझे लगा उनको रात के बारे में कुछ पता नहीं चला होगा. रात को फिर मौसी खाना खाने के बाद पोछा लगा रही थी तो मुझे उनकी चड्डी दिखी. मैंने पिछली रात की तरफ आज भी मौसी के साथ मजे किये मगर अभी मैंने डर के मारे उन्हें चोदा नहीं. और बाथरूम में जाके मुठ  मारके आ गया[/font]
[font=Mangal, serif]अगले दिन फिर खाना खाने के बाद जब मौसी पोछा लगा रही थी तो मई उसकी जाँघे और चड्डी देखने लगा. फिर हम लोग सोने गए. फिर रात को उठके मैं मौसी की चुचि दबाने लगा तो उनकी चुचि एकदम मुलायम लग रही थी . फिर मैंने उनकी शर्ट के बटन खोल के अंदर हात डाला तो मे चौंक गया क्यूंकि मौसी ने अंदर ब्रा नहीं पहनी थी. मे मौसी के नंगे बूबा दबाने लगा आह क्या मज्जा आ रहा था. आज पहली बार मे किसी औरत के नंगे बूब्स दबा रहा था फिर मैंने उनका स्कर्ट ऊपर किसका दिया और उनकी जांघ पे हात फेरना लगा. जैसे ही मैंने अपना हात और ऊपर खिसकाया तो मे shocked हो गया क्यूंकि मौसी ने आज चड्डी भी नहीं पहनी थी. उनकी झांट वाली नंगी  चुत मेरी सामने थी. पर मौसी जब खाना खाने के बाद पोछा लगा रही थी तब तो उन्होंने चड्डी पहनी हुई थी. तो उन्होंने अब चड्डी क्यों निकली. अब मुझे लगने लगा के मौसी ने ये सब मेरे लिए ही किया है. आज जान बुज़कर ब्रा और चड्डी नहीं पहनी थी. तो मेरा डर चला गया[/font]
[font=Mangal, serif]फिर मैंने उनकी झांटो वाली चुत में उंगलिआ घुमाना चालू किया मुझे मस्त लग रहा था. फिर मेरी हिम्मत बढ़ गयी मैंने मौसी के शर्ट के सारे  बटन खोल दिए और उनकी चुचि को चाटने लगा साथ साथ उनकी चुत को भी सहला रहा था फिर मैंने अपनी एक ऊँगली उनकी चुत में घुसा दी. मौसी की मुँह से "आह" निकल गयी. मौसी अब जाग गयी थी. फिर मैंने की चुत चाटना चालू किया साथ साथ उनकी चुचि मसलने लगा. अचानक मौसी ने अपने हात से मेरे मुँह उनकी चुत पे दबा दिया. मौसी की चुत की खुशबु मेरी नाक में गयी. और मै मौसी की चुत को जीभ से चोदने लगा . २-३ मिनट  में मौसी झड गयी . फिर मैंने अपने कपडे उतर के पूरा नंगा हो गया और मेरा लंड  उनकी चुत पे घिसने लगा फिर मैंने अपने लंड मौसी की चुत पे रख के एक झटका दिया तो उनकी चुत बहुत टाइट थी पहले कभी चुदी नहीं थी इसलिए  उनकी हलकी सी चीख निकल गयी. फिर मै थोड़ी देर के लिए रुका और फिर जोरसे झटका दिया तो उनकी चुत का सील टूट गया और  मेरा पूरा लंड  उनकी चुत में घुस गया. फिर मै धीरे धीरे उनकी चुत चोदने लगा. २ मिनट  में मेरा पानी निकल गया. फिर मैंने मेरा लुंड बाहर निकला तो साथ में थोड़ा खून भी निकल आया. फिर मैंने उनकी चुत से निकला हुआ खून पोछ दिया.[/font]
[font=Mangal, serif]फिर मैंने उन्हें बाहोंमे लिया और उन्हें किस करने लगा वो भी मुझे किस करनी लगी. किस करते करते मैंने उनका शर्ट और स्कर्ट उनकी बदन से अलग कर दिया और उनकी पीठ और चूतड़ को दबाने लगा. फिर माने उनकी चीची को बारी बारी चूसा. फिर उन्होंने मुझे निचे लिटाकर मेरे सीने पे किस करने लगी. मेरे निप्पल्स चूसने लगी. बाद में उन्होंने मेरा लंड हात मे लेके आगे पीछे करने लगी मेरा लंड टाइट होने लगा फिर उन्होंने मेरे लुंड को मुँह में लेके चूसने लगी. अब मेरा लुंड एकदम टाइट हो गया तो वो मेरे ऊपर बैठ गयी मेरे लंड पे अपनी चुत रख दी और मेरे लंड पे बैठ गयी. फिर वो मेरे लंड को अपनी चुत में अंदर बाहर करने लगी. साथ साथ मेरे सीने को  मसल रही थी. ५ मिनट में मौसी  झड गयी. फिर मैंने उसे निचे लिटा दिया और चोदने लगा. वो भी निचे से अपनी गांड उठा के चुदाने लगी. फिर मैंने उसे कुतिया बनाके पीछे से उसकी चुत में मेरा लंड डाल के चोदने लगा. मौसी आह आह करके आहे भर रही थी. मुझे तो उन्हें चोदने में बहुत मजा आ रहा था . थोड़ी देर में मौसी भी अपनी गांड पीछे करके  चिल्लाने लगी[/font]
[font=Mangal, serif]"जोरसे और जोरसे चोद  राजू " मै भी जोश में आके चोदने लगा. इस बार मैंने उसे करिब २० मिनट चोदा और उसकी चुत में ही झड गया. फिर वापस २ घंटे बाद मैंने मौसी को और एक बार चोदा. अगले दो दिन मैंने उसे बहुत चोदा. मैंने मौसी की गांड भी मारनी चाही पर उन्होंने गांड नहीं मरने दी. लेकिन बाद में मैंने उनकी गांड जबरदस्ती से मारी ये कहानी मै आपको बाद में बताऊंगा.[/font]
[font=Mangal, serif]अगर आपको ये कहानी अछि लगे तो मुझे2410raj@gmail.com पे रिप्लाई कीजिये[/font]


Read More Related Stories
Thread:Views:
  मेरी प्यास बुझाओगे क्या?, meri-pyas-bujhaoge-kya 4,786
  मेरी समलिंगी सहपाठिनें, meri-samlingi-sahpathine 3,597
 
Return to Top indiansexstories