रात की बात
तभी मेरी नज़र एक लड़की पर पड़ी और पता नहीं क्या हुआ बस उससे ही देखता रहा. उसने ब्लैक कलर की सारी पहनी थी और लो कट और बकलेस ब्लाउज पहना था, और उसकी फिगर क्या गज़ब की थी मानो कोई मॉडल कड़ी हो.

और उसने साडी टाइट पहनी हुई थी जिससे उसकी फिगर और भी सेक्सी लग रही थी और ऐसा लग रहा था कि उसके बूब्स तो ब्लाउज से बाहर आने को तरस रहे हो क्यूंकि उसके बूब्स बहुत बड़े थे. वो मुझ से थोड़ी दूर कड़ी थी. और वो थोड़ी इस तरह कड़ी थी की उसकी साइड व्यू दिख रही थी. उसकी नेवल को देखते ही मैं पागल हो गया और मेरा लंड पेंट के अंदर खड़ा हो गया.

अब मैं बस उसी को देख रहा था वो किसी से बात कर रही थी. वो किसी से बात कर रही थी. फिर थोड़ी देर वो भी एक टेबल पर बैठ गयी. मेरी नज़र तो उससे हट ही नहीं रही थी उसने १- २ बार देखा होगा पर इगनोर कर रही थी.

मुझे ऐसा लगा की वो भी शायद अकेली ही आई है. फिर ऐसे मैं उसे घूरता रहा. फिर थोड़ी देर बाद एंडी आया और हम बात करने लगे. फिर मैंने एंडी से पुछा की वो लड़की कौन है तो उसने कहा रहने दे यार, लाइन मारने से लोई फायदा नहीं वो मैरिड है. मैं यह सुनके तो दांग रह गया और मन में सोचा इतनी सेक्सी लड़की जिसके भी हाथ में आई होगी माजा आ गया होगा उसे तो.

फिर हम दोनों बाते करने लगे और फिर एंडी को फ़ोन आ गया और वो बात करने लगा. मुझसे रहा नहीं जा रहा था. मैंने अपने मन में सोचा की इसे तो मैं ठोक कर ही रहूँगा और मैंने चांस मरने का सोचा. वो अकेली बैठी थी तो मैं उसकी पास वाले टेबल के पास गया और ड्रिंक आर्डर की.

फिर मैं पी गया सारा ड्रिंक और मैंने कहा पार्टनर के बिना कितना बोरिंग लगता है और उसकी तरफ देख कर कहा क्यूँ है न. उसने भी जवाब दिया- हां वो तो है. फिर हम ने एक दुसरे से अपना इंट्रो करवाया. उसका नाम काव्य भाभी था. और वो उसकी शादी को ५ साल हो चुके है. उसके पति एक रहिसजादे है. और वो अक्सर बाहर ही रहते है. फिर हम ऐसे ही नार्मल करते रहे.

फिर पता नहीं मेरे में हिम्मत कहा से आ गयी. शायद मुझे थोड़ी चढ़ गयी थी तो मैंने कहा विल यु डांस विथ मी? तो उसने कहा नो नो आई कान्ट. फिर बहुत ट्राई करने के बाद वो मान गयी. फिर हम दोनों उठे और डांस फ्लोर पर चले गए.

फिर उसने एक हाथ मेरे कंधे पर रखा और मेरा एक हाथ उसकी कमर पे था और हम दोनों का दूसरा हाथ एक साथ था और हम डांस करने लगे. मुझे मानो करंट लगा, उसकी कमर को छुके. मस्त लचीली कमर थी उसकी और मेरा लंड भी खड़ा हो गया. फिर मैं धीरे धीरे अपना हाथ उसकी कमर पे सहलाने लगा और फिर धीरे धीरे उसकी बेक पे हाथ फेरने लगा.

हम ऐसे ही डांस करने लगे और बिच बिच में मैं उसकी कमर को दबोच लेता लेकिन वो कुछ नहीं बोली और एक बार तो मैंने उसके बूब्स को भी टच कर लिया. वो बोली आप अच्छा डांस कर लेते है. मैंने कहा आप भी कुछ कम नहीं है. फिर उसने कहा बस अब नहीं, चलो ड्रिंक लेते है तो हम ड्रिंक करने लगे.

फिर हमने एक दुसरे का नंबर शेयर किया. और थोड़ी देर बाद पार्टी ख़तम हो गयी और वो चली गयी और मैं भी अपने दोस्त एंडी से मिलकर चला गया और घर जा कर काव्य के नम्म की मुठ मारी और सो गया.

फिर कुछ दिनों तक हम मैसेज पर बात करते रहे. फिर एक दिन उसका फ़ोन आया की वो मुझ से मिलना चाहती है, तो मैंने कहा हा मिल लेते है. फिर मिलने की जगह उसने एक कैफ़े फिक्स की और मिलने का टाइम था शाम को ७ बजे. जब मैं ७ बजे कैफ़े पंहुचा वो मेरा इंतज़ार कर रही थी. उसने ब्लैक कलर का ब्लाउज और येलो कलर की सादी पहनी हुई थी और ब्लाउज पूरा बेकलेस था पीछे से सिर्फ एक नादे से बंधा हुआ था. मेरा तो वही खड़ा हो गया.

मैंने उसे स्माइल पास की और हमने कॉफ़ी आर्डर करी. हम दोनों बाजू बाजू बैठे थे. मेरा ध्यान बार बार उसके नेवल पर जा रहा था. मन कर रहा येही दबोच लू. पर पब्लिक प्लेस था बस येही सोच कर अपने आप को रोक लिया. फिर हम बाते करने लगे.

फिर बात करते- करते ८ बज गए और हम अपने अपने घर जाने लगे. मैं उसे उसकी कार तक छोड़ने गया. वो क्यूंकि एक रहीसजादे की बीवी थी इसलिए ऑडी में ही घुमती थी. जब हम उसकी कार के पास पहुचे तो देखा कार का टायर पंक्चर था. वो बोली ओह्ह… इसे भी अभी होना था.

मैंने कहा अब कैसे जयोगी घर. तो वो बोली ऑटो लेलुंगी. तो मैंने कहा चलो मैं ड्राप कर देता हूँ. तो उसने कहा नहीं मैं चली जयुंगी.

तो मैंने कहा- आप कहा ऑटो का वेट करोगे. पता नहीं कब मिलेगा, चलिए मैं आपको छोड़ देता हूँ. जब तक ऑटो मिलेगा हम घर पहुच जायेंगे. तो वो मान गयी. मैं अपनी बाईक लेकर आया और वो मुझ से चिपक कर बैठ गयी.

फिर आधा रास्ता ही हुआ था कि बारिश शुरू हो गयी. मैं बीच – बिच में ब्रेक लगता तो वो और भी मेरी तरफ सरक जाती और उसके बूब्स मेरी पीठ से टकरा जाते. हम उसके घर पहुचे तो हम पुरे भीग चुके थे. मैंने उसका घर देखा तो देखता ही रह गया. बहुत बड़ा घर था उसका.

फिर उसने कहा अंदर आयो और कपडे चेंज कर लो. वरना सर्दी लग जायेगी. मेरे हस्बैंड के कपडे पहन लेना. मैं भी झट से मान गया क्यूंकि मुझे लगा आज अच्छा चांस मिल ही जाएगा.

फिर हम अंदर पहुचे और रूम में गए. वह पर अ.सी. चालू था. मैं उसके पीछे खड़ा था और उसकी गांड देख रहा था. क्या लग रही थी वो उस दिन बारिश की वजह से. उसकी पूरी साड़ी चिपकी हुई थी उसके बदन से. फिर वो बोली मैं चेंज कर के आती हूँ. तुम उस रूम में चलाए जायो और कपडे बदल लो, वह पर मेरे पति के कपडे होंगे जो अच्छे लगे वो पहन लेना.

लेकिन वो जैसे ही जाने लगी, मैंने कहा भाभी बुरा न मनो तो एक दानवे हो जाये. तो उसने कहा पहले कपडे बदल लो. तो मैंने कहा नहीं. अभी डांस करते है, मेरा बहुत मन कर रहा है. उसने कहा ठीक है सिर्फ ५ मिनट ( मैंने मन में सोचा ५ मिनट के बाद जाने थोड़ी दूंगा)

फिर मैंने अपने दोनों हाथ उसकी कमर पे रख दिए और उसने दोनों हाथ मेरे कंधे पे और हम डांस करने लगे. उसके बॉडी धीरे- धीरे गरम हो रही थी. मैंने धीरे- धीरे उसकी कमर पर हाथ फेरना शुरू किया. और पेट पर भी हाथ फेरने लगा.

फिर हम ने डांस की स्पीड बढ़ा ली. अब मैं धीरे-धीरे अपने हाथ उसकी गांड के ऊपर ले जा रहा था. अब तक मैं पूरा खो चूका था और मेरे से मुह से निकल गया कि भाभी आप बहुत सेक्सी लग रहे हो. मुझे आपकी बॉडी को छुते ही करंट लगता है. इतन कह कर मैंने उसकी लिप्स पर किस कर दिया.

थोड़ी देर वो मुझे धक्का देती रही और कहती रही बस बहुत हो गया आब आगे कुछ नहीं. वो इतना कह कर जाने लगी. मैंने उसका हाथ पकड़ा और उसे अपनी तरफ खिंच लिया और उसे हग कर लिया.

अभी भी हम दोनों पूरे भीगे हुए थे. मुझे उस एहुग कर के बहुत अच्छा लग रहा था. फिर वो मुझ से अलग हुई और अपने बेडरूम में जाने लगी. मैं भी जल्दी से उसके पीछे गया पर शायद वो यह बात जानती नहीं थी. फिर मैंने उसे पीछे से पकड़ा और अपने हाथ उसकी नेवल पर रख दिए और पीछे से उसे किस करने लगा.

अब वो ओपोज़ नहीं कर रही थी. अब मैंने उसके पीछे बेक पर किस कर रहा था और अपने हाथ उसकी नेवल पे फेर रहा था. फिर मैं घुटनों के बल बैठ के उसकी गांड पे किस करने लगा साड़ी के ऊपर से ही. फिर मैंने उसे घुमाया अपनी तरफ और उसकी नेवल पर किस करने लगा और कमर पर भी.

करिब १० मिनट के बाद वो खड़ा हुआ और उसे दिवार के सहारे खड़ा किया और अपने दोनों हाथ उसके दोनों हाथ उसके दोनों हाथो के ऊपर फैला दिए. और उसके गले और लिप्स पर किस करने लगा. हम बहुत देर तक ऐसे ही करते रहे. मैंने उसके लिप्स को काटा भी. फिर १५ मिनट बाद हम अलग हुए. फिर उसने कहा चलो टेरेस पर चलते है. मैंने कहा ठीक है.

क्यूंकि उसका घर बहुत बड़ा था तो उसके घर के त्र्रस पे स्विमिंग पूल था, तो मैंने कहा रुको मैं तुम्हे उठा लेता हूँ. मैंने उसे गोद में उठाया और ऊपर ले गया और पूल में फेंक दिया और खुद भी कूद गया. फिर हम वापिस किस करने लगे और अब पूरी तरह वाइल्ड हो गए थे.

फिर मैंने उसकी साडी के ऊपर से ही बूब्स को दबाया. वाह…. क्या… मुलायम बूब्स थे उसके और बहुत बड़े भी. मैं उसे किस करने लगा. मैं उसे किस कर रहा था और हाथो से उसके बूब्स भी दबा रहा था. अब वो पूरी गरम हो गयी थी.

फिर हम पूल से बाहर निअक्ले और रूम में गए. वह जाकर उसने कहा अब अपना लुंड दिखायो जल्दी. अब मुझ से रहा नहीं जा रहा. मैं पूरा नंगा हो गया और उसने मेरा लंड अपने हाथ में लिया और हिलाने लगी.

फिर उसने मुह में लिया और मानो मैं सातवे आसमान पे आ गया. मुझे बहुत मज़ा आ रहा था. २० मिनुइते तक ऐसे ही मुह में लिया और हिलाया. फिर मैंने उसे पूरा नंगा कर दिया और उसके बूब्स के ऊपर टूट पड़ा.

बस दबाता ही रहा. फिर थोड़ी देर बाद मैंने अपना लंड उसके दोनों बूब्स के बिच में रखा और हिलाने लगा. हम दोनों को बहुत मज़ा आ रहा था और वो सिसकिया भर रही थी अह्ह्ह्ह….. फक……. ओह्ह्ह…..

ऐसे ही ५- १० करते रहे फिर मैंने उसकी चूत पे जेक उसे चाटा और तब वो और जोर- जोर से अह्ह्ह….. उह्ह्हह्ह….. करने लगी. फिर अब और कण्ट्रोल नहीं कर पा रहा था मैं इसलिए अपना लंड चूत पे रखा और धीरे धीरे धक्का मार रहा था, पर उसकी चूत बहुत ही टाइट थी.

फिर उसने कहा वहा तेल पड़ा है वो लेकर आयो. मैं वो लेकर आया और फिर उसको अपने लंड पर और उसकी चूत पर लगाया. और उसकी चूत पर अपना लंड सेट कर धीरे- धीरे धक्के देने लगा और फिर एक जोर का शॉट मारा और मेरा ७.५ इंच लंड पूरा अंदर घुस गया और वो चिल्लाई…. aaahhhhh….. फाडडड….. दीईईइ…..

फिर मैंने उसे जोर जोर से धक्के देने लगा वप अहह…. उह्ह्ह्ह….. फक मी….. हार्ड…… अह्ह्ह्ह….. ऐसे करने लगी. फिर मैंने उससे जोर जोर से चोदना शुरू किया. और साथ पोजीशन भी चेंज करता रहा और उसके बूब्स भी दबाये. ऐसा करीब ३० मिनट तक किया और फिर मेरा वीर्य उसकी चूत में पेल दिया और फिर उसके ऊपर ही सो गया.

मुझे उनसे बात करना अच्छा लगता था इसलिए रोज़ कॉलेज से आते ही उनसे थोड़ी देर जरुर बात करता था और वो भी मुझ से अच्छे से बात करती और मजाक भी करती थी. मुझे ना जाने क्यों, उनके साथ बहुत अच्छा लगता था.

में एक दिन उनके घर गया तो वो नहा रही थी. में जान गया था कि वो नहा रही है तो में चुप के से कमरे में बैठा उनके बाहर आने का वेट कर रहा था तो जब वो नहा कर निकली उनको पता नहीं था कि में कमरे में बैठा हु. और वो अपने बूब्स के नीचे टॉवल लपेट कर कमरे में ऐसे ही आ गयी. में तो उन्हें देखते ही रह गया.

उन्होंने जैसे ही मुझे देखा तो अपने आप को मोड़ लिया और पूछने लगी तुम कब आये राज.

मैंने कहा भाभी आप नहा रही थी तो मैंने आप को डिस्टर्ब नहीं किया और फिर वो बोली राज़ प्लीज मेरी साड़ी दे दो. और मैंने साड़ी उठा कर उनको दे दी.

यह सब देखने के बाद आप समझ सकते है कि मेरा क्या हाल होगा और उस से भी जयादा मेरे लंड का जो कि पूरा तरह तन गया था.

तो मैंने कहा भाभी में थोड़ी देर बाद अयुंगा. में जैसे ही उठा मेरा लंड लोअर में ताना हुआ था भाभी मेरे लंड में नज़र लगाये थी मैंने देखा तो उन्होंने आँखे घुमा ली और में निकल गया. और सीधे अपने कमरे में गया और भाभी के नाम कि मुठ मारने लगा. और उस दिन से भाभी को चोदने के तरीके ढूँढने लगा.

आखिर वो दिन आ गया. ठण्ड का टाइम था में कॉलेज से ६ बजे लौट कर आया.

तो भाभी बोली कि आज जयादा ही ठण्ड है.

मैंने भी कहा जी आज बहुत ठण्ड है.

फिर मैंने पुछा कि भाभी क्या भैया ड्यूटी चले गए.?

तो वो बोली हां चले गए.

तो मैंने कहा आप उदास क्यों हो?

तो कहने लगी तुझे समझ नहीं आएगा तो मैंने पलट कर कहा मुझे सब समझ में आता है. आप बतायो तो क्या बात है.

आप बस बताओ तो भाभी कुछ देर सोचती रही फिर बोली क्या रे तेरे भैया तो ड्यूटी चले जाते है और ठण्ड इतनी है कि मेरी रात कैसे कटेगी.

मैंने कहा क्या भाभी में हु ना.

तो वो कहने लगी तू क्या कर लेगा. तो में बोला भाभी मुझे ऐसा वैसा मत समझो मेरे में बहुत दम है.

भाभी बोली अच्छा बहुत दम है तेरे में.

मैंने कहा आजमा कर देख लो तब पता चलेगा आप को.

भाभी बोली ये बता तेरी कोई गर्ल फ्रेंड है.

मैंने कहा भाभी मेरी गर्ल फ्रेंड कभी नहीं बन सकती तो वो पूछने लगी ऐसा क्यों?

तो मैंने कहा में लडकियों के पीछे नहीं भागता. तो भाभी पूछने लगी कि फिर किस के पीछे भागता है.

तो मैंने तुरंत कहा में तो आपके पीछे भागता हु.

तो वो बोली चल झूठे.

मैंने कहा सच में भाभी तो कहने लगी मेरे में क्या खूबी है.

अरे भाभी आप इतनी खूबसूरत हो कि कोई भी आप पर लटतू हो जायेगा.

फिर भाभी बोली अच्छा ऐसा कर तू आज खाना मत बना आज तू मेरे साथ खाना खा लेना..

तो मैंने भी कहा ठीक है उसके बाद वो खान बनाने चली गयी और में भी अपने घर पर बैठ कर पढने लगा.

१० बजे भाभी मुझे बुलाने आई. मैंने पुछा भाभी खाना बन गया तो वो बोली हां. चल आजा खाना खा ले. में लोअर में ही उनके घर चला गया. मैंने स्वेटर भी नहीं पहना था. में सिर्फ शर्ट में था. भाभी मुझे जब खाना परोसने लगी. तो वो बोली राज तुमने स्वेटर भी नहीं पहना है.

तो मैंने कहा हां भाभी आप कि वजह से नहीं पहना तो वो हँसने लगी और बोली तू भी न.

खाना ख़तम कर के में टीवी देखने लगा और भाभी खाना समेत कर बर्तन धोने चली गयी. थोड़ी देर बाद भाभी बर्तन धो कर बाहर आई तो रूम हीटर के पास आ कर बैठ गयी और अपने आप को गरम करने लगी. में भी उनकी बगल में बैठ गया. मैंने कहा भाभी में जा रहा हु तो वो कहने लगी कहा जा रहे हो?

तो मैंने कहा घर और कहा तो वो कहने लगी क्यों अपना दम नहीं दिखओय्गे. तो में समझ गया आज तो अपनी निकल पड़ी. जिस का में इतने दिनों से इन्तेजार कर रहा था वो काम आज पूरा होने वाला है. और वो भी भाभी कि मर्ज़ी से. अब तो मज़ा आ जायेगा.

में तो इसी दिन का वेट कर रहा था तो टपाक से मैंने कहा क्यों नहीं भाभी.

तो वो बोली किस का वेट कर रहे हो फिर तुम चलो बेडरूम में. में अभी २ मिनट में आती हु. मैंने कहा ओके और में उन के बड रूम में पहुच गया.

बूब्स दबा के चूत को पेला
१० मिनट बाद १ गिलास दूध लेकर भाभी कमरे में आई . मैंने दूध पिया और उसके बाद भाभी से लिपट गया तो वो कहने लगी रुक जा मुझे बड पर तो आने दे. ठण्ड इतनी है . मैंने कहा भाभी अभी आपकी ठण्ड दूर किये देता हूँ.

मैंने फटाफट भाभी कि साड़ी उतारी और उनके बूब्स को मसलने लगा खूब तेज़ी से तो वो कहने लगी जरा धीरे से कर मुझे लग रही है.

मैंने कहा अरे भाभी में तुम्हे बहुत पहले से चोदने चाहता था. आज मुझे जो करना है जैसे करना है करने दो. भाभी भी चुप हो गयी और में अपने इतने दिनों कि तमन्ना को पुरे अरमानो के साथ पूरा कर रहा था. बस फिर क्या था में एक हाथ से भाभी के बूब्स मसल रहा था और मुह से उनके बूब्स को चूस रहा था भाभी तो बिलकुल गरम होती जा रही थी.

फिर मैंने उनके लिप पे किस किया और बूब्स को दबाता रहा और वो सिस्कारिया मारने लगी. भाभी के बूब्स मसलने में क्या मजा आ रहा था वो कैसे बताऊँ आप दोस्तों को, वो तो जिसने बूब्स को मसला हैं वही जानता हैं की यह सुख क्या होता हैं!

उसके बाद मैंने उनकी पेंटी निकल दी तो देखा की भाभी कि चूत में बहुत बाल थे.

मैंने भाभी से कहा आपने बाल भी साफ़ नहीं किये. तो कहने लगी अभी तुम साफ़ कर दो. भाभी ने मुझे हेयर रेमोवेर क्रीम दे. मैंने उसे लगाया और पुरे बाल साफ़ कर दिए. अब क्या चूत लग रही थी भाभी कि. एक दम रस भरी. चूत को मैंने तुरंत ही जीभ से चाटना शुरू किया और वो सिस्कारिया मारती रही. मैंने इतनी चूत इतनी चाटी कि वो उछलने लगी और झड गयी और मैंने उनका सारा पानी पी लिया और उसके बाद वो मेरे लंड को चूसने लगी.

तो मैंने कहा भाभी तुम्हे तो बहुत पता है.

तो वो कहने लगी कि एक ब्लू फिल्म में देखा था पर मैंने अपने पति का कभी नहीं चूसा . तो मैंने पुछा कि मेरा कैसे चूस रही हो. तो कहने लगी कि आज मन हो गया और वो खूब मज़े से चूस रही थी. मेरा लंड बिलकुल तन गया था.

फिर मैं भाभी कि चूत में लंड डालने के लिए तैयार था और वो भी अपने पैरो को फैला कर लेट गयी. और मैंने अपना लंड उनकी चूत में रखा और धक्का मरना शुरू किया. पहले झटके में थोडा लंड अन्दर गया. उनकी चूत टाइट थी शायद उन्होंने बहुत दिनों से सेक्स नहीं किया था इसलिए.

फिर मैंने दूसरा झटका मारा और पूरा लंड अन्दर चला गया और वो बहुत तेज़ से चिल्लाई आआआह्ह्ह…. आःह्ह्ह… आह….. ऊऊ…. उफ्फ्फ्फ़….. फिर मैंने अपनी स्पीड बढाई और वो भी बहुत मज़े से चुदवा रही थी.

और वो कह रही थी मेरे जानू आज अपनी भाभी को अपना दम दिखा और में अपनी स्पीड बढाता जा रहा था. और वो उछल उछल कर चुदवा रही थी. वो झड गयी और थोड़ी देर बाद में भी झड़ने वाला था.

तो भाभी से मैंने कहा कि कहा डालू. तो वो कहने लगी अन्दर ही डाल दे. और मैंने अपना पूरा वीर्य अन्दर डाल दिया और हम एक दुसरे से लिपट कर कम्बल ओढ़ कर एक दुसरे को किस करने लगे. उसके थोड़ी देर बाद फिर मौसम बना और फिर हम ने चुदाई का प्रोग्राम शुरू कर दिया और उस रात मैंने भाभी को ३ बार चोदा .

कुछ दिन बाद पता चला कि भाभी प्रेग्नेंट है और उन्हें एक लड़का हुआ है और अब में जब भी गाव जाता हु उनके साथ सेक्स जरुर करता हु. और वो भी मुझ से बहुत प्यार करती है. और हमेशा मेरे साथ सेक्स करने के लिए तैयार रहती है.

 
Return to Top indiansexstories